Home > Blog > Uncategorized

स्त्री का रुमाल छोटा क्यों?

आज यूँ ही कहीं बैठे बैठे एक अधेड़ उम्र की महिला की तरफ ध्यान गया। मोहतरमा शायद (या पक्का!) फेसबुक के वीडियो देखने में मशगूल थीं। वीडियो दर वीडियो खंगाले जा रहे थे। स्क्रीन तो न दीख पड़ती मगर आवाज़ का वॉल्यूम सब बयां कर …

चिमनी vs. एग्जॉस्ट फैन: जानिए कौन आपके किचन को अधिक साफ़ रखता है

भारतीय रसोईघर लज़ीज़ जायकों और विभिन्न किस्म के पकवानो का संगम स्थल है। भारतीय व्यंजन अक्सर तेल, घी की अधिक मात्रा में पकाये जाते है। भारतीय मसालों के बिना कोई भी रेसिपी लज़ीज़ नहीं बन सकती। ऐसे में बस एक हल्का सा छौंक या एक …

उत्तर प्रदेश के तार और तस्वीर

इतिहास स्वयं को दोहराता है। उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनावों के दौरान राहुल गाँधी जब अखिलेश यादव के साथ रोड़-शो पर निकले तो बिजली की लटकी हुयी तारों से खुद को बचाने हेतू झुकना पड़ा। तस्वीर वायरल हुयी। लटकी तारों ने अखिलेश सरकार के …

फीस का जूता

शाम होने को थी। गली में एक कोने पर अपनी दुकान सजा कर बैठा परसी दिन के आखिरी काम निपटाने में मशगूल था। शीघ्रता परन्तु सयम के साथ हाथ में सुई-धागा ले कर फ़टे जूते एवं चप्पलों को सिलता चला जाता। पालिश कर लेता, फीते …

‘शुभ शिक्षा’ की ‘विदाई’

‘प्राचीन भारत’ की शादी में विदाई के दिन दुल्हन के आँगन में आयोजित धाम में सर्वप्रथम बारातियों का हक़ हुआ करता था। आँगन में गड़ी वेद की चार टहनियों के बीच में दूल्हे एवं निकट संबंधियों के लिए आम चटाई से हट कर एक दरी …