Home > Blog > Travel

गोवा का जुगाड़

धूप भले ही तीखी हो मगर सुबह शाम की ठण्ड गज़ब है। बर्फ से लवरेज़ पहाड़ यूँ तो दिसम्बर में न दिखे कभी। अच्छा भी है, बर्फ टिकी रहेगी। सूरज के पश्चिम पलायन के साथ ही सर्द हवाओं का दब-दबा शुरू हो जाता है। चार …

गज़ब हैं मेरे दोस्त भी!

कंपनी अच्छी है मगर एक ही स्यापा है इनके साथ रह कर। हम कभी लम्बे न दिखे! मरिआना ट्रेंच में भी इन्हे डुबो दो, कम से कम इनके बाल तो आपको बाहर दिख ही जायेंगे। हाँ! बालों की बात पर अभिषेक डोहरू एक अपवाद उभर …

पहाड़ की गोद में-एक संस्मरण

भला हुआ था बेगमपेट के मोची से दो जोड़ी जूते उठा लाए थे। कुछ कपड़े सूट्केस में भर कर और कुछ बदन पर लाद कर पगडंडियाँ नापने यहाँ आ धमके थे। दिन सर्द था, मगर सुहाना था। पहाड़ों पर शाम की अवधि अधिक नहीं होती। …