Home > Blog > Story

स्त्री का रुमाल छोटा क्यों?

आज यूँ ही कहीं बैठे बैठे एक अधेड़ उम्र की महिला की तरफ ध्यान गया। मोहतरमा शायद (या पक्का!) फेसबुक के वीडियो देखने में मशगूल थीं। वीडियो दर वीडियो खंगाले जा रहे थे। स्क्रीन तो न दीख पड़ती मगर आवाज़ का वॉल्यूम सब बयां कर …

अमरीका से इंजिनीयरिंग कर के लौटे एक लौंडे की डायरी से साभार

…और बुधिया को भी प्यार हो गया। ‘एलिजबेथ’ (एलज़ाबेथ/Elizabeth) तो पहले ही बुधिया पर सर्वस्व न्यौछावर कर चुकी थी। गाँव का बुधिया ‘स्टेट्स’ (अमेरिका /US) का वीज़ा हाथ में थामे था। ‘डॉनल्ड ट्रंप’ (डोनाल्ड ट्रम्प/Donald Trump) चाह कर भी बुधिया को आने से नहीं रोक …

उत्तर प्रदेश के तार और तस्वीर

इतिहास स्वयं को दोहराता है। उत्तर प्रदेश के विधान सभा चुनावों के दौरान राहुल गाँधी जब अखिलेश यादव के साथ रोड़-शो पर निकले तो बिजली की लटकी हुयी तारों से खुद को बचाने हेतू झुकना पड़ा। तस्वीर वायरल हुयी। लटकी तारों ने अखिलेश सरकार के …

फीस का जूता

शाम होने को थी। गली में एक कोने पर अपनी दुकान सजा कर बैठा परसी दिन के आखिरी काम निपटाने में मशगूल था। शीघ्रता परन्तु सयम के साथ हाथ में सुई-धागा ले कर फ़टे जूते एवं चप्पलों को सिलता चला जाता। पालिश कर लेता, फीते …

दोस्तों की दुनियादारी

दोस्ती लाजवाब है। दोस्ती है तो सब दुरुस्त है। मिल बैठ कर खा पी लेते हैं। एक चिल्ली चिकन का पीस दर पीस चटनी में डूब कर इतना भी मज़ा न देता अगर दोस्त न होते। किसी को घर जाने की जल्दी हो या बाजार …