Home > The Pristine Land

Men Will Be Men! एक सोच, आपकी नज़र

हम कौन सा बदलने वाले हैं, भइया जी! भगवान् का दिया पुरुषार्थ हम काहे भला बदलेंगे? अलग बात रही कि पुरुषार्थ की परिभाषा कुछ और ही है। मगर लोचा भाई के व्याख्यानों से जो पल्ले पड़ा, उसके मुताबिक पुरुषार्थ यही रहा, वो भी भारी लहज़े …

शुभ मंगल सावधान!

आज एक भस्सड़ हुयी। कुछ पुराने अजीज मित्रों से अचानक ही मुलाकात हो गयी। चेहरे पर ख़ुशी का नूर महसूस किया जा सकता था। बीच राह में कुछ पुराने किस्से साँझा किये गए। बातें कुछ इस कदर बढ़ती गयीं कि कहना ही पड़ा ‘चलो! एक-एक …

अनजान सा शख्स

अनजान सा शख्स टटोलता अनजान सी राहें आज पहुँच गया मेरे दर-दरवाजे पर मंज़िल का पता पूछता है मैंने भी दे दिया अपने बेटे का रोल नंबर ढूंढ लो साथ मिल कर उसे भी तो पानी है मंज़िल

खामोश व्यक्तित्व का परिचय

गणित के इक्के-दुक्के जादूगर शेष हैं आज। एक जादूगर और चला गया। गणित के लेखे-जोखे से हट कर साहित्य के पन्नों में अपना नाम दर्ज़ करवा दिया। प्रवक्ता शशि शर्मा! आज शशि शर्मा जी हिंदी के प्रवक्ता हो लिए। गणित की रूप सज्जा अब हिंदी …